DOWNLOAD OUR APP
IndiaOnline playstore
06:13 AM | Thu, 26 May 2016

Download Our Mobile App

Download Font

बुंदेलखंड : एक और आसमानी आफत से किसानों में निराशा

77 Days ago

लगातार डेढ़ दशक से सूखे और दैवीय आपदा का सामना कर रहे उत्तर प्रदेश के हिस्से वाले बुंदेलखंड़ में बांदा, चित्रकूट, महोबा व हमीरपुर के किसानों को इस साल मौसम ने और अधिक दगा दिया है।

यहां करीब 90 फीसद खेत परती (खाली) पड़े है। कुछ किसानों ने भूजल के भरोसे गेहूं और तिलहन-दलहन की फसल बोई, उस पर भी एक और आसमानी आफत टूट पड़ी है। सोमवार की रात अचानक हुई मामूली बारिश के साथ ओलावृष्टि से तिलहन और दलहन की फसल खेत व खलिहान चकनाचूर हो गए हैं।

देश-विदेश में खेती-किसानी का गुर सिखाने वाले बडोखर गांव के प्रगतिशील किसान प्रेम सिंह ने बताया कि 'सोमवार की रात हुई ओलावृष्टि से तिलहन-दलहन की 50 फीसदी फसल खेत और खलिहानों में बिखर कर नष्ट हो गए हैं।'

उन्होंने बताया कि 'सूखे की वजह से 90 फीसदी खेत परती पड़ी है, दस फीसदी खेतों में ही किसान भूजल के भरोसे बुआई कर सके हैं।'

गैर सरकारी संगठन 'कृषि एवं पर्यावरण विकास संस्थान' के निदेशक सुरेश रैकवार का कहना है कि 'इस ओलावृष्टि से बांदा के अलावा चित्रकूट, महोबा व हमीरपुर में भी किसान सकते में हैं, ओलावृष्टि से किसानों को बीज वापसी की भी उम्मीद खत्म हो गई है।'

उनका आरोप है कि 'फसल बेदम होने के बाद, गांवों में खेतिहर मजदूरों को मनरेगा में भी काम नहीं मिल रहा, जिससे लोग पलायन करने को मजबूर हैं।'

अपर जिलाधिकारी (एडीएम) बांदा दयाशंकर पांडेय ने बताया, "ओलावृष्टि से प्रभावित फसल के नुकसान के आंकलन के लिए क्षेत्रीय लेखपालों को गांवों में भेजा जा रहा है, रिपोर्ट मिलने के बाद शासन को अवगत कराया जाएगा।"

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

Viewed 8 times
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • E-mail

Our Media Partners

app banner

Download India's No.1 FREE All-in-1 App

Daily News, Weather Updates, Local City Search, All India Travel Guide, Games, Jokes & lots more - All-in-1