DOWNLOAD OUR APP
IndiaOnline playstore
10:54 PM | Sun, 29 May 2016

Download Our Mobile App

Download Font

सियाचिन के हिमस्खलनः बर्फ से लड़ते-लड़ते 9 जवान शहीद, सभी शव बरामद

109 Days ago
| by RTI News

4f3738c5-5936-426f-8ac5-d2046b13fd0e

जम्मू-कश्मीरः इस बीच सियाचिन में बर्फ में दबे जवानों के शव निकालने का अभियान मंगलवार को पूरा हो गया और अंतिम चरण में सेना की राहत कार्यों वाली टीम ने सभी सैनिकों के शवों को निकाल लिया है। सेना ने 8 सानिकों को शवों को मंगलवार को शाम होते-होते निकाल लिया।

आपको बता दें कि हादसे का शिकार कुल 10 सैनिक हुए थे, जिसमें से एक सैनिक के शव को पहले ही बरामद कर लिया गया था और लांस नायक हनुमथप्पा अस्पताल में भर्ती है, शेष 8 सैनिकों के शवों को भी निकाला जा चुका है.

जिन सैनिकों की मौत हुई है, उनके नाम हैं :
 ** सूबेदार नागेश टीटी (तेजूर, जिला हासन, कर्नाटक),
 ** हवलदार इलम अलाई एम. (दुक्कम पाराई, जिला वेल्लोर, तमिलनाडु)
 ** लांस हवलदार एस. कुमार (कुमानन थोजू, जिला तेनी, तमिलनाडु)
 ** लांस नायक सुधीश बी(मोनोरोएथुरुत जिला कोल्लम, केरल)
 ** सिपाही महेश पीएन (एचडी कोटे, जिला मैसूर, कर्नाटक)
 ** सिपाही गणेशन जी (चोक्काथेवन पट्टी, जिला मदुरै, तमिलनाडु)
 ** सिपाही राम मूर्ति एन (गुडिसा टाना पल्ली, जिला कृष्णागिरी, तमिलनाडु)
 ** सिपाही मुश्ताक अहमद एस (पारनापल्लै, जिला कुर्नूल, आंध्र प्रदेश)
 ** सिपाही नर्सिग असिस्टेंट सूर्यवंशी एसवी (मस्कारवाडी, जिला सतारा, महाराष्ट्र)
 ** लांस नायक हनुमानथप्पा कोप्पड़, (बेटाडुर, जिला धारवाड़, कर्नाटक) की हालत गंभीर बनी हुई है।





रक्षा विभाग के जनसम्‍पर्क अधिकारी लेफि्टनेंट कर्नल एस डी गोस्‍वामी के हवाले से खबर दी है कि  खराब मौसम के मद्देनजर सेना और वायुसेना का विशेष दल लापता जवानों की तलाश के लिए 24 घंटे काम कर रहा था.

सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘बाकी सभी आठ जवानों के शव हिमस्खलन वाली जगह से मिल गये हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘तीन फरवरी को तड़के जवानों की चौकी के पास हुए हिमस्खलन के बाद बर्फ के 30 फुट नीचे दब गये 10 जवानों का पता लगाने और उन्हें निकालने के लिए सियाचिन में शुरू किये गये अभियान में इन्हें निकाला गया।’’

अधिकारी ने कहा, ‘‘लांस नायक हनमंथप्पा कोप्पड को 30 फुट बर्फ के नीचे से जीवित निकालने में सफलता का श्रेय बचाव दलों के दृढ़संकल्प को जाता है जो कठिन परिस्थितियों में काम कर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम अत्यंत दुख के साथ इस बात की पुष्टि करना चाहते हैं कि बाकी नौ शहीदों के शव भी बचाव दलों ने निकाले हैं जिनमें एक जूनियर कमीशन्ड अधिकारी शामिल था।’’ अधिकारी ने कहा कि शहीदों के शवों को आवश्यक औपचारिकताओं के बाद यथासंभव जल्द उनके पैतृक स्थानों को भेजा जाएगा।

रक्षा प्रवक्‍ता लेफि्टनेंट कर्नल एस डी गोस्‍वामी ने बताया कि इलाके के चुनौतीपूर्ण और प्रतिकूल वातावरण का बड़ी बहादुरी से मुकाबला करते हुए सेना और वायु सेना के बचावकारी दल चौबीसों घंटे लापता फौजी जवानों को ढूंढने में लगे हुआ था। मद्रास रेजीमेंट का एक जे सी ओ और नौ सैनिक उस समय बर्फ में लापता हो गये थे जब बुधवार को उनकी चौकी बर्फ की तोदो की चपेट में आ गई थी। 

Viewed 180 times
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • E-mail

Our Media Partners

app banner

Download India's No.1 FREE All-in-1 App

Daily News, Weather Updates, Local City Search, All India Travel Guide, Games, Jokes & lots more - All-in-1