DOWNLOAD OUR APP
IndiaOnline playstore
05:32 AM | Wed, 29 Jun 2016

Download Our Mobile App

Download Font

सोनिया गांधी के लिए मुसीबत बन सकता है पी. चिदंबरम का अफजल-प्रेम

121 Days ago
| by RTI News

dab11c3e-1cca-46b8-8a97-227c8a9fff21

नई दिल्लीः कांग्रेस नेता और विदेश एवं वित्तमंत्री रह चुके वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम अपनी ही पार्टी अध्यक्ष के लिए बड़ी मुश्किल बन सकते हैं. दरअसल पूर्व गृह सचिव जी.के पिल्लई ने TOI से बातचीत में कहा इशरज जहां मामले में सुप्रीमकोर्ट मे दिए जाने वाले हलफनामे में उस समय के गृहमंत्री रहे पी. चिदंबरम ने बदलाव किए थे. उनका कहना था कि पी. चिदंबरम नहीं चाहते थे कि इशरत के लश्कर-ए-तैयबा से रिश्ते उजागर हों.

यूपीए सरकार में गृह सचिव रहे जी.के पिल्लई ने बताया कि पहले हलफनामे में केंद्र की तब की सरकार ने माना था कि इशरत आतंकवादी थी और उसके संबंध लश्कर थे. लेकिन बाद में पी. चिदंबरम ने उस ज्वाइंट सिक्रेटरी से फाईल मंगाकर उसमें बदलाव कर दिए और सुप्रीमकोर्ट में दिए दूसरे हलफनामे में केंद्र सरकार की ओर कहा गया कि इशरत लश्कर की आतंकवादी नहीं थी.

जी.के पिल्लई ने कहा कि पूर्व गृहमंत्री ने ज्वाइंट सिक्रेटरी से इशरत जहां से फाइल मंगवाई और कहा कि इसमें बदलाव की जरूरत है. इससे पहले इसी मामले में समाचार चैनल टाइम्स नाऊ से बातचीत में जी.के पिल्लई ने कहा था कि इशरत जहां मामले में जमकर राजनीतिक हस्तक्षेप किया गया है.

आपको बता दें कि इस मामले में पूरे 12 साल तक तब के तात्कालीन गुजरात के मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी कानून के घेर में रहे और उनसे पूछताछ भी की गई. वहीं गुजरात के पूर्व गृहमंत्री अमित शाह को इसी मामले में जेल भी जाना पड़ा था और गुजरात न आने का भी आदेश सुना दिया गया था.

वहीं जब उनसे पूछा गया कि उस पूरे ऑपरेशन के बारे में आप क्या सोचते हैं तो उन्होंने कहा कि जिस तरह से इशरत जहां और उसके साथी आतंकियों को मार गिराया गया था वो इंटेलीजेंस एजेंसी के लिए बड़ी कामयाबी थी. एजेंसी के लोगों ने लश्कर के शूटरों को ट्रैक करके उनको शूट किया बड़ी बात थी.

गौरतलब है कि इससे पहले आईबी के पूर्व निदेशक राजेंद्र कुमार ने भी आरोप लगाया था कि राजनीतिक दबाव के चलते सीबीआई ने इशरत का नाम चार्जशीट से हटा लिया था.

कुछ दिन पहले ही चिदंबरम ने ये कहकर सनसनी फैला दी थी कि अफजल गुरू को फांसी नहीं देना चाहिेए था. उस पर संसद में हमला करने का दोष संदेहास्पद था. वहीं इशरत जहां के मुद्दे पर कांग्रेस अब सदन में घिरती नजर आ रही है. बीजेपी सांसद अनुराग ठाकुर ने संसद में इस मुद्दे को उठाते हुए कांग्रेस से जवाब मांगा है.

Viewed 28 times
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • E-mail

Our Media Partners

app banner

Download India's No.1 FREE All-in-1 App

Daily News, Weather Updates, Local City Search, All India Travel Guide, Games, Jokes & lots more - All-in-1