DOWNLOAD OUR APP
IndiaOnline playstore
08:44 PM | Fri, 01 Jul 2016

Download Our Mobile App

Download Font

लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड में शामिल क्रिकेट के भगवान की आत्मकथा

133 Days ago
| by RTI News

eca9cfaf-5aeb-4db4-af92-0c76a1e8ceb2

नई दिल्ली: क्रिकेट के'भगवान' कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने भले ही क्रिकेट की बेमिसाल दुनियां के अन्तर्राष्ट्रीय संसस्कारण को अलविदा कह दिया हो लेकिन उनका रिकार्ड बनाने का सिलसिला अब भी लगातार जारी है। उनकी आत्मकथा ‘प्लेइंग इट माई वे’ ने ‘लिम्का बुक आफ रिकार्ड’ में कीर्तिमान स्थापित किया है और यह कथा और गैर कथा आधारित वर्ग में सबसे ज्यादा बिकने वाली पेपर बैक किताब बन गई है।

‘प्लेइंग इट माई वे’किताब का प्रकाशन हैचेट इंडिया ने किया है जिसे 6 नवंबर 2014 को जारी किया गया था। इसने कथा आधारित और गैर कथा आधारित वर्ग के वयस्क वर्ग के पेपरबैक में सारे रिकार्ड तोड़ दिए हैं जिसकी 1,50,289 प्रतियां ‘आर्डर ससक्रिप्शंस’ से बिकी हैं।
 
‘प्लेइंग इट माई वे’किताब के पहले दिन के आर्डर ही प्री. आर्डर और लाइफटाइम सेल्स दोनों में सबसे आगे है। इसने दुनिया की शीर्ष वयस्क हार्डबैक डैन ब्राउन की इनफर्नो, वाल्टर इसाकसन की स्टीव जास और जे के रॉलिंग की कैजुअल वैकेंसी को पीछे छोड़ दिया है।

बोरिया मजूमदार तेंदुलकर की इस आत्मकथा के सह लेखक थे। इसने खुदरा मूल्य के मामले में भी रिकार्ड बनाया है, इसकी कीमत 899 रूपये थी जिससे 13.51 करोड़ रूपये की कमाई हुई। 

Viewed 23 times
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • E-mail

Our Media Partners

app banner

Download India's No.1 FREE All-in-1 App

Daily News, Weather Updates, Local City Search, All India Travel Guide, Games, Jokes & lots more - All-in-1