DOWNLOAD OUR APP
IndiaOnline playstore
10:11 AM | Fri, 27 May 2016

Download Our Mobile App

Download Font

26/11 की गवाही का दूसरा दिनः आतंकियों को ISI करता है आर्थिक व सैन्य मदद

107 Days ago
| by RTI News

2676ef26-57da-481a-8e4b-856b54cfb301

मुम्बईः पाकिस्‍तानी मूल के अमरीकी आतंकी डेविड कोलमैन हेडली का बयान आज दूसरे दिन भी मुम्‍बई की विशेष अदालत में वीडियो कान्‍फ्रेंसिंग के जरिये दर्ज किया गया। विशेष सरकारी वकील उज्‍जवल निकम ने बताया कि लश्‍कर ए तैयबा के आतंकी डेविड हेडली ने आज और कुछ महत्‍वपूर्ण जानकारियां दी।

दूसरे दिन की गवाही में हेडली ने कई बातों पे खुलासा किया है। पहला खुलासा  इसने किया है कि लश्‍कर-ए-तोयबा और आईएसआई इनकी एक सांठगांठ थी और इतना ही नहीं आईएसआई, लश्‍कर-ए-तोयबा को मोरल, मिलिट्री और फाइनेंशियल सपोर्ट करती है यह भी बात उसने कही। हमने जब हेडली को पूछा कि कर्नल शाह, ब्रिगेडियर रियाज और लेफ्टिनेंट कर्नल हमजा इनको पहचानता है क्‍या तो उसने कहा कि मैं इनको पहचानता हूं।  ये लोग आईएसआई में काम करते हैं, एंड दे कोर्डिनेट विद लश्‍कर ए तोयबा यह भी उसने बात कही।

विड हेडली ने यह भी स्‍वीकार किया कि जकीउर रहमान लखवी लश्‍करे तैयबा का कमाण्‍डर था।

मुंबई की एक विशेष अदालत के समक्ष लगातार दूसरे दिन गवाही देते हुए पाकिस्‍तानी मूल के अमरीकी आतंकवादी डेविड कोलमेन  हेडली ने कहा कि नवम्‍बर 2007 में मुजफ्फराबाद में एलईटी के मेंबर्स की बैठक हुई थी। जिसमें मुंबई पर हमला करने का निर्णय लिया गया था।  इसी मीटिंग में ताज होटल के सम्‍मेलन कक्ष में होने वाली भारतीय विश्‍व वैज्ञानिकों की बैठक को निशाना बनाने की भी योजना बनाई गई थी।

इस बैठक में एलईटी के सादिक ने अबु खफ्फाक तथा शरीन मौजूद थे। शरीन ने जानकारी दी कि उसने कई अहम टारगेट जैसे कि सुरक्षा और डिफेंस संस्‍थान, सिद्धि विनायक मंदिर जैसे कई जानेमानी जगहों की रेकी की थी और मुंबई में लेंडिंग साइड का चुनाव भी उसी ने किया था।

हेडली ने यह भी कहा कि पाकिस्‍तान की आईएसआई  ने  उसे कहा था कि वह उनके लिए जासूसी करने के लिए भारतीय सैन्‍य कर्मियों की नियुक्ति करे। हेडली ने कहा कि एलईटी, जैश ए मोहम्‍मद, हिजबुल मुजाहिद्दीन  और हरकत ए मुजाहिद्दीन पाक के कब्‍जे वाले कश्‍मीर में सक्रिय यूनाइटेड जिया काउंसिल का सहयोगी है। स्‍वीटी कोठारी, आकाशवाणी समाचार, मुंबई।

हेडली ने बताया है कि जमात उद दावा प्रमुख हाफिज सईद और जकीउर रहमान लखवी पाकिस्‍तान की सेना और आईएसआई के सहयोग से काम कर रहे थे।
                             
इस बीच अमरीका ने कहा है कि वह 2008 के मुम्‍बई आतंकी हमले के षड़यंत्रकर्ताओं को सजा दिलाने के लिए भारत को सहायता देने पर कटिबद्ध है।
अमरीका के गृहविभाग के प्रवक्‍ता जॉन किर्बी ने बताया कि अमरीका मुम्‍बई आतंकी हमले के जिम्‍मेदार लोगों को सजा दिलाने के लिए भारत सरकार की हरसंभव सहायता करेगा।
               

Viewed 32 times
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • E-mail

Our Media Partners

app banner

Download India's No.1 FREE All-in-1 App

Daily News, Weather Updates, Local City Search, All India Travel Guide, Games, Jokes & lots more - All-in-1