DOWNLOAD OUR APP
IndiaOnline playstore
05:56 AM | Fri, 27 May 2016

Download Our Mobile App

Download Font

91 साल बाद RSS का मेकओवरः बदल गई ड्रेस,हाफ से फुल हुआ पेन्ट

74 Days ago
| by RTI News

115b781f-f887-48ec-9990-14d2a23980c5

नई दिल्लीः आखिरकार 91 साल के लंबे इतिहास के राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (RSS) ने खुद में बड़े बदलाव करते हुए पहचान बने चुके हाफ खाकी पेंट और सफेद रंग के चोले में बदलाव कर लिया है। अब खाकी निक्कर की जगह शाखाओं में जाने वाले स्वयंसेवक ब्राउन कलर की फुल पेंट पहने नजर आएंगे। यह जानकारी संघ के सह कार्यवाह सुरेश भैय्या जोशी ने पत्रकारों को दी। उन्होंने स्वीकार किया कि गणवेश बदलने का निर्णय प्रतिनिधि सभा की बैठक में हो गया है।

 संघ ने इसे समय के बदलाव के साथ खुद को बदलने का एक प्रयास बताया। संघ महासचिव भैय्याजी जोशी ने फैसले का ऐलान करते हुए कहा कि ''सामान्य जीवन में फुलपैंट चलती है और हमने उसे स्वीकार किया। हम समाज के साथ चलने वाले लोग हैं।'' और जैसा कि अपेक्षित था, मीडिया ने पूरा ध्यान इसी निर्णय पर केंद्रित किया। मगर क्या नागौर की बैठक सिर्फ खाकी निकर के आसपास ही घूमती रही? जवाब है नहीं।

राजस्‍थान के नागौर में राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (RSS) के सरकार्यवाह सुरेश भैया जी जोशी ने कहा कि  संपन्‍न वर्ग की ओर से आरक्षण मांगना डॉक्‍टर बी. आर. आंबेडकर के विचारों और संविधान की मूल भावनाओं के खिलाफ  है। इस मौके पर राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (RSS)  ने परंपरागत खाकी निकर की जगह भूरे रंग की पतलून को अपनी वर्दी बनाए जाने की घोषणा भी की।

राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (RSS) की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा का तीन दिवसीय राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन रविवार को नागौर में संपन्‍न हो गया।

राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (RSS) ने महिलाओं को मंदिरों में प्रवेश की अनुमति देने का समर्थन करते हुए कहा है कि ऐसे संवेदनशील मामलों को आंदोलन के जरिए नहीं, बल्कि बातचीत के जरिए सुलझाया जाना चाहिए। राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (RSS)  का यह भी कहना था कि सरकारी नौकरियों में आरक्षण से समाज के कमजोर वर्गों को मदद मिली है ऐसे में संपन्‍न वर्ग की तरफ से अपने लिए भी आरक्षण की मांग करना  उचित नहीं है।

RSS गणवेश में कब-कब हुए बदलाव
-1925 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना
-1940 में खाकी शर्ट को बदलकर सफेद शर्ट किया
-1973-सेना के जूतों के स्थान पर सामान्य जूते इस्तेमाल किए गए।
-2010 में चमड़े की बेल्ट बदली। इसके स्थान पर केनवास बेल्ट शामिल
-2016 में नागौर से खाकी निकर बदलने का फैसला। अब खाकी निकर के स्थान पर ब्राउन फुट पेंट होगी

Viewed 113 times
  • SHARE THIS
  • TWEET THIS
  • SHARE THIS
  • E-mail

Our Media Partners

app banner

Download India's No.1 FREE All-in-1 App

Daily News, Weather Updates, Local City Search, All India Travel Guide, Games, Jokes & lots more - All-in-1