Best for small must for all
Promote your Business

कोराना महामारी मे राजनेताओं की राजनीति जनता पर भारी

By CJ Sandeep Gupta

news

आज चारो तरफ विकराल रूप से फैल चुकी पुराना महामारी आमजन के लिए इतनी खतरनाक हो चुकी है कि मजदूर क्या व्यापारी भी और छोटे दुकानदार भी स्थानीय शासन और प्रशासन के रवैया से बहुत परेशान हो चुके हैं अगर यही हाल रहा रोटी रोटी के लाले पड़ने शुरू हो जाएंगे जब व्यक्ति अपना रोजगार दुकान या कारोबार नहीं खोल पाएगा तो कैसे व्यापार चलेगा और पैसे का आवागमन कैसे होगा जब तक भारतीय मार्केट के अंदर पैसे का आवागमन नहीं होगा जब तक व्यापार भी कुछ नहीं होगा और मुसीबत के मारे और कुदरत के मारे अब मजदूर भाई और बहनों को हमारे देश के राजनीतिक दलों ने अपनी राजनीति का मोहरा बनाकर उनको दरबदर कर दिया है आज देश और देश की सभी राज्य सरकारें और स्थानीय शासन प्रशासन जिस प्रकार आम जनता के अधिकारों पर और उनकी स्वतंत्रता पर आपदा कानून के तहत अतिक्रमण कर रहे हैं यह असहनीय है मामला आता है उत्तर प्रदेश का वहां कांग्रेस के विधायक और उनकी नेता प्रियंका गांधी अपनी गलतियों के कारण फर्जीवाड़े के चक्कर में राजनीतिक शिकार हो गए हैं और उत्तर प्रदेश में हमारे माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी महाराज जमीनी स्तर पर सराहनीय कार्य तो कर रहे हैं परंतु उनके स्थानीय विधायक सांसद उन कार्यों को प्रशासन की मदद से आम जनता तक पहुंचाने में असफल होते नजर आ रहे हैं इसका कारण केंद्र द्वारा दिए गए उत्तर प्रदेश राज्य को कोराना महामारी से संबंधित आदेश को उत्तर प्रदेश सरकार के अधिकारी सही प्रकार से जमीनी स्तर पर स्थानीय स्तर पर लागू नहीं कर पा रहे हैं जबकि हॉस्पिटलों में हमारे डॉक्टर नर्स और वार्ड बॉय और पूरा स्टाफ कोराना वोरियर के रूप में इमानदारी से कार्य कर रहे हैं और पुलिस विभाग भी ईमानदारी से कार्य कर रहा है परंतु उसके कुछ कर्मचारी आपदा कानून का दुरुपयोग कर रहे हैं ऐसे लोग आम जनता का चालान काटने के नाम पर शोषण कर रहे हैं और यह स्थिति उत्तर प्रदेश की कि नहीं हमारे देश के सभी राज्यों के शासन प्रशासन की है सबसे ज्यादा विकराल स्थिति तो महाराष्ट्र के शासन और प्रशासन की है जहां पर वहां के मुख्यमंत्री श्रीमान उधव ठाकरे जी अपनी आन्तरिक राजनीति के कारण पूरे फेल हो चुके हैं जो मुख्यमंत्री कोराना महामारी में अपनी आम जनता की और पुलिस विभाग के कर्मचारियों की और डॉक्टर नर्स इन लोगों की सुरक्षा नहीं कर पा रहा है तो आप समझ सकते हैं इस राज्य में शासन भगवान भरोसे चल रहा है और पश्चिम बंगाल में तो हमारी दीदी मुख्यमंत्री माननीय ममता बनर्जी जी तो धर्म की राजनीति में इतनी व्यस्त है कि मालूम नहीं कितने कोराना मरीज उत्पन्न करेगी या कितने बेचारे लोग अपनी जान से हाथ धो बैठेंगे और देश का दिल कहलाने वाली हमारे देश की राजधानी दिल्ली का तो इतना बुरा हाल है की पूरी दिल्ली रेड जोन होने के बावजूद हमारे मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल जी ने बाजार रोशन कर दिए हैं रोक तो कहीं नजर नहीं आ रही है और कोराना मरीजों के आंकड़ों में इतना फर्जीवाड़ा कर दिया है कि यह नहीं पता चल रहा की दिल्ली में असलियत में कितने कोराणा मरीज हैं कितने मर गए हैं कितने ठीक हो रहे हैं क्योंकि उनका अब नया बहाना शुरू होने वाला है की दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं है इस प्रकार की राजनीति ने और रेल राजनीति ने और वाहन राजनीति ने मजदूर बहन भाइयों का सबसे ज्यादा शोषण किया है इसके जिम्मेदार हमारे देश के सभी राजनीतिक दल है जो इस आपदा काल में भी आम जनता की बीमारी और मौत पर बाजी गिरी वाली राजनीति कर रहे हैं अब तो भगवान ही इन सभी राजनीतिक दलों को सद्बुद्धि दे और सभी मजदूर भाई और बहन अपने घर पर पहुंचे और अपने परिवार से मिले और जल्द से जल्द हमारे वैज्ञानिक कोराना की वेकसीन या दवाई बनाए वैसे हमारे देश के आर्युवेद मे इसका इलाज संभव है हमारी भारत सरकार को इस पर जागरूकता अभियान जमीनी स्तर पर चलाना चाहिए और देश के सभी नागरिकों को कोराना महामारी मे ड्राक्टरो द्वारा दिए गये दिशा निर्देशो का पालन करना चाहिए क्योंकि आज पूरे विश्व के आकडो के अनुसार हमारा देश मे पहले के मुकाबले कोराना महामारी पर कुछ हद तक कंट्रोल हुआ है जिसमे कोराना मरीजो का ठीक होने का आंकड़ा बहुत अच्छा है और मृत्यु दर भी कम है फिर भी सभी नागरिकों को सोशल डिस्टेंस कुछ समय के लिए बनाना पडेगा जबहि हम इस महामारी से विजय पा सकेगे, वंदे भारत संदीप गुप्ता

Download Our Free App

Advertise Here