आपकी जीत में ही हमारी जीत है
Promote your Business

भारत रक्षा मंच की मांग पाल भर संतो की मांग निर्मम हुई हत्या की पैरवी कर रहे वकील दिग्विजय त्रिवेंदी जी की मौत की सीबीआई और एनआईए से जांच करवाई जाए

By CJ Sandeep Gupta

news

प्रति, माननीय श्री. अमित शाहजी, गृह मंत्री, भारत सरकार प्रति, मुख्य न्यायाधीश, सर्वोच्च न्यायालय प्रति, मुख्य न्यायाधीश मुंबई उच्च न्यायालय *पालघर हत्याकाण्ड के साधुपक्ष के वकील की मृत्यु संबंधी* 16 अप्रैल 2020 की रात को महाराष्ट्र के पालघर ज़िले के गड़चिंचले गाँव में दो जूना अखडे के भगवाधारी साधु और उनके वाहन चालक की तथाकथित ग्रामस्थो ने लुटेरों की आशंका से डंडो और लोहे की रॉड से पीट पीटकर निर्मम हत्या की थी जिसकी न केवल देश के पर विदेशों के भी हिन्दुओ ने आलोचना की थी। गुस्साये हुए हिन्दुओं ने केवल वर्तमान लॉक डाउन का मान रखते हुए जुलूस प्रदर्शन नही किये पर अपने अपने घरों से एक दिन का उपवास रखकर और दिप जलाकर इसका विरोध प्रदर्शन किया। भारत रक्षा मंच के देशभर के कार्यकर्ताओं ने अपने अपने परिवारजनों के साथ भी ऐसा ही प्रदर्शन 30 अप्रैल को किया। आप को याद दिला दूँ की यह घटना कासा पुलिस थाने के अधिकार क्षेत्र में घटी थी। इन साधुओं को, उनके वाहन चालक को और समस्त हिन्दू समाज को न्याय दिलाने के लिए विश्व हिंदू परिषद ने पक्ष रखने के लिए अधिवक्ता श्री. दिग्विजय त्रिवेदीजी की नियुक्ति की थी। 13 मई 2020 की सुबह 9.30 बजे वे जब उनकी गाड़ी से डहाणू के तहसील न्यायालय में इसी हत्याकाण्ड प्रकरण की न्यायालयीन कार्रवाई के लिए उनके सहायक अधिवक्ता श्रीमती प्रीति त्रिवेदीजी के साथ जा रहे थे तब इसी कासा पुलिस थाने के अधिकार क्षेत्र में उनकी गाड़ी अपघातग्रस्त हुई। पुलिस का कहना है कि उनकी गाड़ी रास्तेपर पलटी खाकर गिर गयी जिसमे श्री. दिग्विजय त्रिवेदीजी की मृत्यु हुई और उनकी सहायक श्रीमती प्रीति त्रिवेदीजी गंभीर रूप से घायल हो गयी। जैसे कि साधुओं की हत्या के वायरल वीडियो में हम सभी ने देखा था कि पुलिस ने उनकी शरण लेने की भीख मांगनेवाले साधुओं को और उनके वाहन चालक को हिंसक भीड़ के सुपुर्द किया था, अधिवक्ता स्वर्गवासी श्री. दिग्विजय त्रिवेदीजी की मृत्यु भी एक साधारण अपघात से हुई है इस पुलिस की कहानी पर मानवतावादी हिन्दू समाज का विश्वास नही है। अतः हमारी माँग है कि इस अपघात को भी पालघर हत्याकाण्ड की ही कड़ी माना जाये और इस घटना की जाँच भी CBI अथवा NIA को सौंपी जाये जिससे निष्पक्ष जाँच हो सकेगी। अधिवक्ता स्वर्गवासी श्री. दिग्विजय त्रिवेदीजी की मृत्यु को हिन्दू समाज अपघात में हुई मृत्यु मानने को तैयार नही और इसे भी हत्या ही मानता है। हमे पूर्ण विश्वास है कि केंद्र सरकार इस विषय को गम्भीरतापूर्वक ले रही है और साथ ही हम मुम्बई उच्च न्यायालय तथा भारत के सर्वोच्च न्यायालय से प्रार्थना करते है कि एक अधिवक्ता की संदिग्ध मृत्यु को न्यायिक प्रक्रिया को कुचलने का प्रयास मानते हुए अपने अधिकारों का उपयोग करते हुए आवश्यकता पड़ने पर इस जाँच को CBI या NIA को सौंपने के आदेश जारी करे। श्री. सूर्यकांत केळकर राष्ट्रीय संगठन मंत्री भारत रक्षा मंच श्री. अनिल धीर राष्ट्रीय महामंत्री भारत रक्षा मंच. गोविंद मालवीय क्षेत्रीय संगठन मंत्री भारत रक्षा मंच उत्तर क्षेत्र सुनील गर्ग अध्यक्ष मेरठ प्रांतीय भारत रक्षा मंच संदीप गुप्ता मीडिया प्रभारी भारत रक्षा मंच मेरठ प्रांतीय

Download Our Free App